हम अच्छे सही पर लोग ख़राब कहतें हैं

हम अच्छे सही पर लोग ख़राब कहतें हैं,
इस देश का बिगड़ा हुआ हमें नवाब कहते हैं,
हम ऐसे बदनाम हुए इस शहर में,
कि पानी भी पिये तो लोग उसे शराब कहते हैं।

Khushi Wear

गुजरते लम्हों में सदियाँ तलाश करता हूँ

गुजरते लम्हों में सदियाँ तलाश करता हूँ;
प्यास इतनी है कि नदियाँ तलाश करता हूँ;
यहाँ पर लोग गिनाते है खूबियां अपनी;
मैं अपने आप में कमियाँ तलाश करता हूँ…!!

भूलकर हमें अगर तुम रहते हो सलामत

भूलकर हमें अगर तुम रहते हो सलामत;
तो भूलके तुमको संभलना हमें भी आता है;
मेरी फ़ितरत में ये आदत नहीं है वरना;
तेरी तरह बदल जाना हमें भी आता है…!!

सूरज, चाँद और सितारे मेरे साथ में रहे

सूरज, चाँद और सितारे मेरे साथ में रहे;
जब तक तुम्हारा हाथ मेरे हाथ में रहे;
शाखों से जो टूट जाये वो पत्ता नहीं हैं हम;
आंधी से कोई कह दे कि औकात में रहे…!!