मेरी नाकाम-ए-हसरतें बे-नकाब हो गई!

Bewafa Shayari SMS in Hindi

दिल की बेबसी अब तो
बे-हिसाब हो गई;

तू पहले हकीक़त थी
अब ख़्वाब हो गई!

आंसुओं को तो मैंने
पलकों में छुपाए रखा;

पर मेरी नाकाम-ए-हसरतें
बे-नकाब हो गई!

Khushi Wear

एक ग़लती हज़ारो सपने जला कर राख देती है!

SMS Love Shayari in Hindi

एक पहचान हज़ारो दोस्त
बना देती हैं;
एक मुस्कान हज़ारो गम
भुला देती हैं;
ज़िंदगी के सफ़र मे संभाल
कर चलना;
एक ग़लती हज़ारो सपने
जला कर राख देती है!!